Pitra Dosh Effects in Hindi | घर में इन पौधों के उगना देता है पितरों के नाराज होने के संकेत, आज ही निकाल करें बाहर

धर्म
PUBLISHED: April 13, 2024

पितृ दोष क्या होता है – Pitra Dosh Kya Hota Hai

Pitra Dosh Symptoms in Hindi : वास्तु शास्त्र के  नियम अनुसार घर के लिए कुछ पौधों का लगाना सुखप्रद माना जाता है।  वहीं घर में  खुद से जन्मे पौधे वास्तु अवगुण के साथ पितृ दोष का भी कारण बन सकते है। (Pitra Dosh Effects)  चलिए विस्तार में जानते हैं कि कौन सा पौधा पितृ दोष की वजह बन सकता है और इससे आप कैसे बचे इसके उपय।

Pitra Dosh Remedies in hindi: घर की साज सजावट के लिए कई बार कुछ पौधों का लाना शुभ माना जाता है। लेकिन लगातार घर में कोई अप्रिय घटना घट रही हो तो यह किसी दोष का कारण हो सकता है।  कई बार इन्सान ये भी  महसूस करता है कि बिना किसी वजह उसके जीवन में कोई ना कोई समस्या आए  रही है। (pitra dosh effects and remedies) इसके पीछे और कोई नहीं बल्कि पितृ दोष की वजह हो सकती है। कई बार घटित हुई कल्पनातीत घटना पितृ दोष की ओर इशारा करती हैं।  दरअसल वास्तु शास्त्र के अनुसार यदि घर में अपने आप कोई पौधा जन्म जाए तो यह अप्रिय कल्पनातीत घटना का कारण बन सकता है।

पितृ दोष वाला पौधा – Plant with ancestral defect

वास्तु शास्त्र की मानें तो यदि आपके  घर में बिना लगाएं ही पीपल का पेड़ लग जाए तो यह पितृ दोष का कारण बन सकता है। (easy remedies for pitra dosh)  जिसके निवारण के लिए व्यक्ति को तुरंत ही इस उपाय को अपनाना चाहिए वरना कई प्रकार की मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

जानें पितृ दोष का निवारण – Know the solution to Pitra Dosh

यदि घर में पीपल का पेड़ अपने आप उग जाए तो यह पितृ दोष की वजह तो बन सकता है।  जिससे बचने के लिए इन्सान को तुरंत ही पितृ का तर्पण करना चाहिए।

Also Read : लाखों में सिर्फ एक इंसान के पैरों में होता है यह खास निशान

क्या करें पीपल के पौधे का – What to do with peepal plant

पीपल का पौधा यदि घर में खुद से उग जाए तो उसे तुरंत ही उस जगह से दूर कर दें।  आप ये भी ध्यान रखें कि हटाने के ठीक 45 दिन पहले इसमें प्रतिदिन पानी जरूर अर्पित करें साथ ही पूजा भी करें।  (Pitra Dosh Effects) फिर इस पौधे को 45 दिन बाद उस जगह से निकालकर किसी अच्छी और  साफ जगह पर लगा दें।  ऐसा करने से पितृ दोष से छुटकारा मिल जाएगा।  साथ ही पौधे को भी कोई भी  नुकसान नहीं होगा।

Also Read : History of Ashwatthama in Hindi | अश्वत्थामा की पूरी कहानी, महाभारत युद्ध से जुड़े रहस्य

Recommended For You

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!